जोधपुर: राजस्थान से बड़ी खबर आई है। जोधपुर में 11 पाकिस्तानी शरणार्थियों की एक साथ मौत हुई है। मामले की जानकारी मिलने के बाद हड़कंप मचा हुआ है। फिलहाल मौत के कारणों का पता नहीं चल पाया है। जानकारी के अनुसार यह माना जा रहा है कि जहरीली गैस या जहर खुरानी से मौत हुई है। मामला देचू थाने के लोड़ता क्षेत्र का है। स्थानीय थाने के पुलिस अधिकारी हनुमानाराम मौके पर पहुंचे हैं। सभी मृतक पाकिस्तान से विस्थापित के बाद यहां रह रहे थे। बताया जा रहा है कि सभी लोग अचलावता गांव में खेती का काम करते थे। पुलिस मामले की जांच में जुटी है।

इलाके में एक साथ 11 शव मिलने से सनसनी का माहौल है। हर तरफ इसी की चर्चा हो रही है। स्थानीय लोग इस पर कुछ भी बोलने से बच रहे हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार इस घटना में 6 वयस्क व 5 बच्चों की मौत हुई है। थानाधिकारी राजू राम ने बताया कि इनमें सात महिला फीमेल है और चार पुरुष है। इधर पुलिस लोगों से पूछताछ कर रही है। राजस्थान के सीमावर्ती गांवों में पाकिस्तान से आए शरणार्थी बड़े पैमाने पर शरण लिए हुए हैं। कई-कई गांव की लगभग पूरी आबादी ही पाकिस्तानी शरणार्थियों की है।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इस परिवार की एक बहन जो कि पेशे से नर्स है , यहां अपने भाई को राखी बांधने के लिए आई थी। इसके बाद यही रहने लगी कुछ लोगों का यह भी कयास है कि बहन ने सबसे पहले इन 10 लोगों को जहरीला इंजेक्शन लगाया । उसके बाद स्वयं को इंजेक्शन लगा दिया।

पुलिस की जांच के दौरान यह बात सामने आई कि इस परिवार में कुल 11 लोग थे और एक बहन यहां आई हुई थी। इसके बाद कुल 12 लोग यहां मौजूद थे, जिनमें से 11 लोगों की मौत हो गई । परिवार का एक सदस्य खेत के नलकूप की तरफ चला गया था और उसका कहना है कि रात को उसे वहीं पर नींद आ गई जब वह सुबह आया तो उसने देखा कि पूरा परिवार मौत की नींद सो चुका है।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top