रक्षाबंधन का पर्व आज मनाया जा रहा है। राखी का यह त्योहार भाई-बहन के प्यार का प्रतीक है। धार्मिक मान्यता के अनुसार, हर शुभ अवसर पर शुभ घड़ी का विचार किया जाता है। रक्षाबंधन पर भी शुभ मुहूर्त को भी देखा जाता है। इसलिए भद्राकाल में राखी नहीं बांधी जाती है। रक्षाबंधन पर सुबह 9.29 बजे तक भद्रा रहेगी। वहीं आज सुबह 7.30 बजे के बाद से पूरे दिन श्रवण नक्षत्र लगा रहेगा। इसके साथ पूर्णिमा तिथि रात में 9.30 तक रहेगी।  रक्षाबंधन का सबसे शुभ मुहूर्त है साढ़े नौ बजे से लेकर साढ़े ग्यारह बजे तक. यह एक ऐसा मुहूर्त है जो ना सिर्फ भाई-बहन को लंबी उम्र देगा, बल्कि उनके भाग्य को भी मजबूत बनाएगा. इसलिए शुभ मुहूर्त में राखी बांधने हो तो सुबह 9 बजकर 25 मिनट से सुबह 11 बजकर 28 मिनट तक बहन अहने भाई को राखी बंध लें. वहीं, शाम को बहनें राखी बांधना चाहती हैं, उनके लिए सर्वश्रेष्ठ समय शाम तीन बजकर 50 मिनट से लेकर शाम 5 बजकर 15 मिनट तक रहेगा.

बहनें सुबह 5 बजकर 40 मिनट से सुबह 9 बजकर 30 मिनट तक अपने भाई को राखी ना बांधे. दरअसल, इस समय भद्रा रहेगी, जिसमें राखी बांधने का मनाही होती है. इसके इसके अलावा इस समय कई और अशुभ योग बन रहे हैं. इस दौरान राखी ना बांधें. इस समय राहु काल भी रहेगा. अशुभ घड़ी 11 बजकर 28 मिनट से लेकर दोपहर 01 बजकर 07 मिनट तक रहने वाली है. इस समय भी भाई को राखी बांधने से बचना चाहिए.

 

क्षा बंधन यानी राखी 2020 कल सोमवार को देशभर में मनाया जाएगा. इस दिन सुबह 9 बजकर 28 मिनट से रात 9 बजकर 27 मिनट तक शुभ मुहूर्त रहेगा जिसमें बहनें भाइयों को राखी बांध सकती हैं. 3 अगस्त को श्रावण मास की पूर्णिमा भी है और सावन का आखिरी और पांचवां सोमवार भी इसी दिन पड़ रहा है. राखी यानी रक्षा बंधन 2020 इस बार 3 अगस्त यानि कल सोमवार को पड़ रहा है. खास बात ये है कि इस दिन सावन सोमवार भी है यानी शिव जी का दिन. रक्षाबंधन पर भद्रायोग सुबह 9.30 पर ही समाप्त हो जाएगा. यानी इसके बाद पूरे दिन राखी बांधने का उत्तम समय रहेगा. ज्योतिष गणना के अनुसार 3 अगस्त को सुबह 6:51 बजे से ही सर्वार्थ सिद्धि योग का आरंभ है. यह अत्यंत फलदाई योग माना गया है.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top