चमोली : कोरोना का कहर देश में जारी है लेकिन इस बीच भी बहनें भाइयों को राखी बांधने आईं और भाई को रक्षा सूत्र बांधने को उत्साहित है। वहीं देश की रक्षा कर रहे कई फौजी और हिमवीर ऐसे हैं जो छुट्टी ने मिलने के कारण घर न जा पाए क्योंकि उनके लिए देश ही सबकुछ है…लेकिन उनको इस त्यौहार का एहसास और खुशी दी उत्तराखंड चमोली के जोशीमठ की महिलाओं ने। जी हां चमोली जिले से लगी भारत-चीन सीमा की अग्रिम चौकियों पर तैनात आइटीबीपी के जवानों को जोशीमठ की बहनों ने शनिवार को 450 राखी भेजीं। उन्होंने आइटीबीपी परिसर औली में आयोजित कार्यक्रम के दौरान हिमवीरों की कलाई में भी राखियां बांधीं। उत्तराखंड से बहनों ने हिमवीरों को बहनों की कमी महसूस नहीं होने दी और रक्षा सूत्र बांधा।

बता दें कि बहनों की ओर से भेजी गई इन राखियों को आइटीबीपी प्रथम वाहिनी और औली स्थित भारतीय पर्वतरोहण और स्कीइंग संस्थान की ओर से अग्रिम चौकियों पर पहुंचाया जाएगा। बता दें कि रक्षाबंधन के मौके पर सीमा सेलगी चौकियों पर कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जिसमे हिमवीरों और जवानों को चमोली-जोशीमठ की महिलाएं रक्षा सूत्र बांधती है।

बता दें कि बीते दिनो चीन-भारत सीमा विवाद के बाद उत्तराखंड-चीन सीमा पर भी जवानों की भारी संख्या में तैनाती की गई और जवानों की छुट्टियां रद्द कर दी गई है जिस कारण कई हिमवीर भाई घर नहीं जा पाए और बहनों से राखी नहीं बंधा पाएंगे ऐसे में जोशीमठ से बहनों ने हिमवीर भाइयों के लिए राखी भेजी और कार्यक्रम में राखी बांधेंगी।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top