भारतीय सेना ने पहली बार नियंत्रण रेखा यानी की एलओसी महिला सैैनिकों को तैनात किया। कश्मीर में आतंकवाद और नशे के कारोबार को रोकने के लिए उत्तरी कश्मीर में एलओसी के साथ सटे कुपवाड़ा में असम राइफल्स की महिला सैनिकों को तैनात कर दिया गया है। यहां पहली बार महिला सैनिकों की तैनाती की गई है। जबकि, सीआरपीएफ की महिला वाहिनी करीब दो दशक से तैनात है। लोग इसकी काफी तारीफ कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर बेटियों को सैल्यूट किया जा राह है। जानकारी मिली है कि नियंत्रण रेखा पर हथियारों और नशीले पदार्थों की तस्करी के लिए आतंकवादियों ने महिलाओं का सहारा लेना शुरू कर दिया है। यही कारण है कि उत्तरी कश्मीर में सेना की वज्र डिवीजन में असम राइफल्स की महिला सैनिकों की टुकड़ी को पड़ताल चौकियों पर तैनात किया गया है जो की नशा खोरी रोकने और हथियार तस्करी को रोकने में कारगार साबित हो सती है। एक दस्ता एलओसी से सटे टंगडार-टीटवाल मार्ग और दूसरा साधना टॉप पर पड़ताल चौकी पर तैनात किया गया।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top