हल्द्वानी : सुशीला तिवारी अस्पताल कई बार सुर्खियों में आया है। सुशीला तिवारी अस्पताल कुमाऊं का सबसे बड़ा अस्पताल है जहां कई जिलों के लोग इलाज कराने आते हैं। कुमाऊं का सबसे बड़ा अस्पताल अपनी लापरवाही के चलते सुर्खियों में रहता है। बीते दिन भी सुर्खियों में आया क्योंकि एक कोरोना संक्रमित मरीज लापता हो गया और उसका शव अगले दिन अस्पताल के ही बाथरुम में मिला। ये क्यों, कैसे हुआ अस्पताल प्रबंधन के पास कोई जवाब नहीं है। वहीं इस घटना को अभी 24 घंटे भी नहीं हुए थे कि एक और लापरवाही अस्पताल से सामने आई है जिसे सुन और पढ़कर आप भी हैरान रह जाएंगे। आपको बता दें कि अस्पताल की लापरवाही के कारण एक कोरोना पॉजिटिव महिला वार्ड से अपने घर काठगोदाम पहुंच गई। रात 10 बजे महिला को उसके घर से दोबारा एसटीएच के वार्ड में भर्ती कराया गया। वहीं पुलिस ने महिला के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने की तैयारी में है।

मिली जानकारी के अनुसार गंगानगर काठगोदाम निवासी महिला की कोरोना जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद उसे 30 जुलाई को सुशीला तिवारी में भर्ती कराया गया था औऱ डी वार्ड में उसका इलाज चल रहा था। गुरुवार सुबह डॉक्टर वार्ड में राउंड पर आए थे तो दरवाजा खुला देख महिला मौका पाकर वहां से फरार हो गई। जब दोपहर 12 बजे अस्पताल प्रशासन को इसकी जानकारी हुई तो उन्होंने महिला को तलाशना शुरु किया औऱ इसकी सूचना पुलिस को दी। सर्च करने पर महिला घर में मिली। स्वास्थ्य विभाग और पुलिस टीम महिला के घर पहुंची और उसे वापस वार्ड में लाया गया।

जानकारी मिली है कि महिला वार्ड में भर्ती होने के बाद से वह काफी परेशान थी। महिला अक्सर डॉक्टरों और स्टाफ को खुद को डिस्चार्ज करने को कहती थी।  एसओ नंदन सिंह रावत ने बताया कि समझाने के बाद महिला रात 10 बजे करीब टीम के साथ वापस हॉस्पिटल आ गई।





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top