पंडित दीनदयाल उपाध्याय ने भारत की सनातन विचारधारा को युगानुकूल रूप में प्रस्तुत किया वे एकात्म मानववाद की विचारधारा द्वारा मजबूत और सशक्त भारत चाहते थे।…. किसी ने सच ही कहा है कि कुछ लोग सिर्फ समाज बदलने के लिए जन्म लेते हैं और समाज का भला करते हुए ही खुशी से मौत को गले […]



0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top