खटीमा: नेपाल बॉर्डर पर बसे सिसैया गांव में शारदा सागर डैम से छोड़े पानी छोड़ गया, जिसके चलते जनभराव हुआ और उसमें डूबने से दो साल की बच्च्ी की मौत हो गई। यह कोई पहला मौका नहीं है, जब इस तरह की घटना हुई हो। पिछले साल भी यहां एक मासूत की डूबने से मौत हो गई थी। ग्रामीण कई बार शिकायत कर चुके हैं। बावजूद समस्या जस की तस है।

सिसैया गांव में पानी में डूब कर दो साल की मासूम बच्ची की दर्दनाक मौत हो गई। मजदूरी कर गुजर-बसर करने वाले गांव के पिंटू की दो साल की बच्ची कृतिका खेलते-खेलते घर के पास शारदा डैम से छोड़े गए पानी के कारण हुए जल भराव में जा गिरी। बच्ची को परिजनों ने किसी तरह वहां से बाहर निकालकर खटीमा के सरकार अस्पताल में ले गए, लेकिन बच्ची की रास्ते में ही मौत हो चुकी थी।

इस घटना से लोगों में गुस्सा है। लोगों को कहना है कि कई बार कहने के बाद भी समस्या को हल नहीं लिकाला जा रहा है। बार-बार इस तरह से पानी छोड़ दिया जाता है, जिससे गांव में जलभराव हो जाता है। जलभराव लोगों के लिए मुसीबत तो है ही, जानलेवा भी साबित हो रहा है। आखिर कब तक लोग बच्चों की जान गवांते रहेंगे।

The post उत्तराखंड : 2 साल के मासूम की डूबने से दर्दनाक मौत, ये हैं जिम्मेदार first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top