कर्नाटक: देश भले ही कितनी तरक्की क्यों ना कर ले, लेकिन समाज में आज भी ऐसे लोग हैं जो जातिवाद को लेकर वर्षों पुरानी सोच के साथ जी रहे हैं। दलितों को अछूत मान रहे हैं। ऐसा ही एक मामले मैसूर में सामने आया है। यहां एक दलित के बाल काटे जाने पर सैलून के मालिक पर 50,000 रुपये का जुर्माना लगाया गया।

मैसूर जिले के हल्लारे गांव में मल्लिकार्जुन शेट्टी सैलून चलाते हैं, पिछले कई दिनों से उनका पूरा परिवार सामाजिक बहिष्कार झेल रहा है। उन्होंने दलितों और पिछड़े वर्ग के लोगों के बाल काटे हैं। हल्लारे गांव के ऊंची जाति के लोगों ने यह फरमान सुनाया है और मल्लिकार्जुन पर 50,000 रुपये का जुर्माना लगाया है। मल्लिकार्जुन बताते हैं कि कुछ दिन पहले उनकी दुकान पर ऊंची जाति के लोग आए थे और उन्होंने मल्लिकार्जुन को धमकी दी थी कि वो दलितों के बाल ना काटें।

सैलून के मालिक मल्लिकार्जुन ने बताया कि जब मैंने शिकायत करने की बात कही तो मुझे धमकी दी गई, मारपीट की गई और पांच हजार रुपये भी छीन लिए। इस मामले को लेकर नंजनगुड रूरल पुलिस का कहना है कि मल्लिकार्जुन खुद मामला नहीं दर्ज कराना चाहते हैं। इसलिए दोनों पक्षों से बात करके इस मामले का निपटारा कर दिया गया है।

The post सैलून मालिक ने काटे दलित के बाल, गांव वालों ने दी ऐसी सजा first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top