रुड़की: रुड़की में 2 साल के बच्चे के अपहरण के प्रयास का मामला सामने आया है। बाइक सवार बदमाश बच्ची को लेजाने लगे तो 10 साल की अग्रीमा ने बच्ची का हाथ पकड़ लिया और बाइक के साथ घसीटती हुई चली गई। उसका शोर सुनकर लोगों को पता चला, जिसके बाद बदमाशा वहां से फरार हो गए। परिजनों और कॉलोनी के लोगों ने सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों के फुटेज खंगालकर मामले की जांच शुरू कर दी है।

जानकारी के अनुसार सिविल लाइंस कोतवाली क्षेत्र के अशोक नगर स्थित मंदिर में देवेंद्र पोखरियाल पुजारी हैं। उन्होंने मंदिर के पास ही मकान बनाया है। पहले वे पास में ही किराये पर रहते थे। मामला गुरुवार की शाम का है। चार साल की बेटी शिवांगी और दो साल का बेटा शिवांश पूर्व के मकान मालिक के घर गए थे। कुछ देर बाद मकान मालिक की दस साल की बेटी अग्रिमा दोनों बच्चों को घर छोड़ने आ रही थी। अग्रिमा ने दोनों बच्चों का हाथ पकड़ रखा था। इस बीच पीछे से एक बाइक सवार युवक आया और उसने 2 साल के मासूम को उठा लिया।

उसने शिवांश को जबरन बाइक पर बैठाने की कोशिश की, लेकिन अग्रिमा ने उसका हाथ नहीं छोड़ा। उसने बताया कि बदमाश ने उसका गला दबाने की कोशिश भी की, लेकिन, अग्रिमा ने हार नहीं मानी। बच्ची का साहस को देख बदमाश ने बाइक दौड़ा दी। अग्रिमा ने शिवांश का हाथ नहीं छोड़ा और दूर तक घिसटती चली गई। इस दौरान वो जोर-जोर से चिल्लाने लगी। बदमाश पकड़े जाने के डर से घबरा गया और मासूम को छोड़कर फरार हो गया।

The post उत्तराखंड: घसीटती चली गई पर बच्चे का हाथ नहीं छोड़ा, अग्रिमा की बहादुरी देख फरार हुआ बदमाश first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top