फाइजर की कोरोना वायरस वैक्सीन लगवाने के बाद एक महिला डॉक्टर को लकवा मारे जाने का मामला सामने आया है।जानकारी मिली है कि महिला डॉक्‍टर को वैक्‍सीन लगाने के आधे घंटे के अंदर ही शरीर में चकत्‍ते पड़ने, ऐंठन, कमजोरी और सांस लेने में दिक्‍कत होने लगी जिसके बाद उन्हें आईसीयू में भर्ती कराया गया था। बीमार डॉक्‍टर के परिवार वालों ने अपील की है कि वैक्‍सीन के इस तरह के गंभीर दुष्‍प्रभाव को लेकर अतिरिक्‍त जांच की जरूरत है। वहीं इस पर स्वास्थ्य मंत्रालय ने बयान दिया है। बता दें कि मामला मैक्सिको का है।

इस मामले पर मैक्सिको के स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कहा है कि उसने पूरे मामले की जांच शुरू कर दी है। स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कहा क‍ि डॉक्‍टर कार्ला के दिमाग और स्‍पाइनल कॉर्ड में सूजन का इलाज किया गया है। वैक्‍सीन लगने से पहले डॉक्‍टर कार्ला को एक एंटीबायोटिक से एलर्जी थी। इस एंटीबॉयोटिक से भी डॉक्‍टर को इसी तरह के गंभीर दुष्‍प्रभाव का सामना करना पड़ा था। मंत्रालय का कहना है कि हम इस बात पर जोर नहीं दे रहे हैं कि डॉक्‍टर कार्ला को लकवा वैक्‍सीन की वजह से मारा है। फिर भी यह स्‍पष्‍ट करना आवश्‍यक है क‍ि इसका वैक्‍सीन के लगने से संबंध है या नहीं है। हम यह दलील नहीं दे रहे हैं कि वैक्‍सीन की वजह से लकवा मारा। इसकी पुष्टि करने के लिए एक शोध की जरूरत है।’ उधर, डॉक्‍टर कार्ला के रिश्‍तेदार कार्लोस ने कहा कि हमारे परिवार ने यह फैसला किया है कि लोगों को वैक्‍सीन के प्रति हतोत्‍साहित नहीं किया जाए। साथ ही यह सुनिश्चित किया जाए कि डॉक्‍टर कार्ला का ठीक से इलाज हो और उनके पूरे मामले की जांच की जाए ताकि भविष्‍य में ऐसी किसी घटना को रोका जा सके।

इससे पहले स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने कहा था कि 32 साल की डॉक्‍टर कार्ला को फाइजर की कोरोना वायरस वैक्‍सीन लगवाया गया था। उन्‍हें वैक्‍सीन लगाने के आधे घंटे के अंदर ही शरीर में चकत्‍ते पड़ने, ऐंठन, शरीर में कमजोरी और सांस लेने में दिक्‍कत के बाद आईसीयू में भर्ती कराया गया है।’ डॉक्‍टर को जब वैक्‍सीन का रिएक्‍शन हुआ, उस समय वह टीका लगाने वालों की निगरानी में थे। अब उनका इलाज किया जा रहा है।

The post कोरोना वैक्सीन लगाने के बाद महिला डॉक्टर को मार गया लकवा,परिवार ने की ये अपील first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top