रुड़की : मातृशक्ति की मिसाल और महिला सशक्तिकरण का जीता जागता उदाहरण पानीपत की साइना जो इन दिनों रुड़की में ई-रिक्शा चलाकर अपने परिवार का पेट पाल रही है। पति के देहांत के बाद साइना ने बच्चों को अच्छी परवरिश देने के लिए रिक्शा चलाना शुरू किया तो लोगों ने मजाक भी बनाई लेकिन साइना के कदम नहीं डगमगाए और करीब 9 सालों के लंबे सफर को साइना ने रिक्शा चलाकर पार किया।

साइना मूल रूप से पानीपत की रहने वाली है और हाल ही में रुड़की के पिरान कलियर में रहती है। साइना की दो बेटी और एक बेटा है जिन्हें साइना रिक्शा चलाकर अच्छी परवरिश के साथ-साथ बेहतर तालीम भी दे रही है। छोटी बेटी 10 वी कक्षा में पढ़ती है जबकि दो बच्चे इंटर में हैं। साइना के इस जज़्बे को हर कोई सलाम करता है।

अमूमन आपने रिक्शा चलाते हुए लोगों को देखा होगा लेकिन रुड़की की सड़कों पर एक महिला बेझिझक ई-रिक्शा चलाती हुई दिखाई देती है। जिसका नाम साइना है जो पति की मौत के बाद बच्चों की परवरिश के लिए रिक्शा लेकर सड़को पर निकल पड़ी। साइना पूरे दिन रिक्शा चलाती है और सवारियों को उनकी मंजिल तक पहुँचाती है। हालांकि साइना की मंजिल उसे अभी भी नहीं मिली। इस सफर में कई तरह की दिक्कतों का सामना करते हुए साइना तमाम तरह की आलोचनाओं को दरकिनार कर परिवार का भरणपोषण कर रही है।

मूल रूप से पानीपत निवासी साइना पिछले कुछ महीनों से पिरान कलियर में रह रही है। साइना के तीन बच्चे है जिनमें दो बेटी और एक बेटा जो अभी पढ़ाई कर रहे है। साइना बताती है कि वह पहले कई सालों से पानीपत में रिक्शा चलाती थी लेकिन वहां गुजारा नहीं हो पाया तो वह कलियर आ बसी और अब यहां ई रिक्शा चलाती है। उन्होंने बताया पति के देहांत के बाद परिवार की जिम्मेदारी उनके कंधों पर थी तो उन्होंने काम करने का बीड़ा उठाया और रिक्शा चलाने लगी। उन्होंने बताया रिक्शा चलाने के दौरान कुछ लोग उनकी मज़ाक भी बनाते है लेकिन वह सबकुछ दरकिनार कर अपने परिवार के लिए रोज ई-रिक्शा लेकर रूड़की की सड़कों पर निकलती है। उन्होंने बताया रिक्शा चलाकर वह बच्चो का पेट पाल रही है साथ ही बच्चो को अच्छी तालीम भी दे रही है। आज साइना की छोटी बेटी 10 वी कक्षा में पढ़ती है जबकि दो बच्चें इंटर कर रहे है। साइना के इस जज्बे को सलाम है।

 

The post रुड़की : साइना के जज्बे को सलाम, पति की मौत के बाद भी नहीं डगमगाए कदम, ऐसे पाल रही 3 बच्चे first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top