चमोली हादसे ने देश ही नहीं विदेशों में भी लोगों को झकझोर कर रख दिया। दुनिया भर के वैज्ञानिक चमोली त्रसदी को लेकर शोध कर रहे हैं कि आखिर त्रासदी आई किस कारण। अमेरिका के वैज्ञानिकों ने शोध कर तस्वीरें भी साझा की है। बता दे कि चमोली  हादसे में अब तक 32 लोगों के शव बरामद हो चुके हैं। वहीं 197 लोग लापता हैं। अधिकतर मजदूर हैं जो उस दिन टनल औऱ ऋषि गंगा प्रॉजेक्ट का काम कर रहे थे। हर किसी ने अचानक आए सैलाब से बचने की कोशिश की लेकिन कइयों को मौत के मूंह से जवान बाहर ले आए तो कई लापता हैं जिनकी तलाश जारी है। जो बचकर आ गए या जिनके अपने खो गए वो आंसुओं का सैलाब लेकर अपनों को ढूंढ रहे हैं। उनके परिवार वाले बस एक ही सवाल पूछ रहे हैं कि वो कब आएंगे। जिनका बेटा खोया है वो उम्मीद लगाए बैठे हैं कि उनका बेटा जिंदा होगा औऱ जल्द घर आए।

वहीं तपोपन साइट के बाहर आपदा प्रभावित लोगों के परिजनों की भीड़ में आंखों में आंसू लिए अजय नेगी के परिवार पर भी कुदरत की मार पड़ी। अजय नेदी के जीजा सत्यपाल बर्तवाल लापता है जो कि तपोवन में इलेक्ट्रििशयन के रूप में तैनात थे। जल प्रलय आने के बाद से वो लापता हैं। पोखरी मसोली गांव के रहने वाले अजय ने दुख जताते हुए कहा कि ढाई साल पहले ही उनकी बहन की शादी सत्यपाल से हुआ था। उनके सामने बार-बार अपने डेढ़ साल के भांजे को चेहरा आ रहा है जो एक ही बात पूछ रहा है पापा कब आएंगे।

अजय नेगी ने कहा कि बहन फोन कर कर के पूछ रही है, भैजी, त्यार जिजाजी कन छीं ? ठीक छीं न ? मैं क्या बताऊं कि कुदरत ने जाने किस जन्म का बदला हमसे लिया है ? हमारी तो सारी खुशियां ही उजड़ गई हैं। भगवान करे, जीजा जी सकुशल मिल जाएं।

The post चमोली हादसा : बहन फोन करके पूछ रही है, भैजी, त्यार जिजाजी कन छीं? ठीक छीं न? मैं क्या बताऊं first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top