रुड़की: शुक्रवार की देर रात करीब साढ़े दस बजे उत्तराखंड के कई जिलों में भूकंप के झटके महसूस होने की खबर से हड़कंप मच गया। भूकंप की खबर आग की तरह फैल गई। भूकंप के झटकों को लेकर रुड़की आइआइटी के वैज्ञानिकों का कहना है कि उत्तराखंड में भूकंप नहीं आया था। बल्कि ताजिकिस्तान में आए भूकंप के कारण उत्तराखंड में भी झटके महसूस हुए है।

शुक्रवार की रात करीब साढ़े दस बजे भूकंप की खबरे आग की तरह फैल गई। उत्तराखंड के कई जिलों से भूकंप के झटके महसूस होने की खबरे सामने आई। रुड़की शहर में भी लोगों ने भूकंप के झटके महसूस किए। रात को लोग घरों से बाहर निकल आए और एक दूसरे से जानकारी साझा की। रुड़की आईआईटी के वैज्ञानिकों का कहना है कि भूकंप का केंद्र ताजिकिस्तान रहा है, जिसके कारण बहुत दूर तक उसकी धलक महसूस की गई।

उन्होंने बताया सिस्टम के जरिये ये मालूम हुआ कि उत्तराखंड में कोई भूकंप नही आया है। बल्कि, ताजाकिस्तान में आए तेज गति वाले भूकंप के कारण ही उत्तराखंड में भी झटके महसूस हुए है। रुड़की आईआईटी के भूकंप विभाग के वैज्ञानिक मुकुट लाल शर्मा ने बताया भूकंप को रोका नही जा सकता इससे सावधान रहने की जरूरत है। उन्होंने बताया ताजाकिस्तान में भूकंप की तीर्वता से ही दूर तक उसकी धलक महसूस की गई है। उन्होंने कहा सभी को सावधानियां बरतने की आवश्यकता है।

The post उत्तराखंड में नहीं था केंद्र, यहां के भूकंप का था असर, वैज्ञानिकों का खुलासा first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top