आज तीरथ कैबिनेट के मंत्रियों की सूची हाईकमान तैयार कर लेगा और उनका आज शाम 5 बजे राजभवन में शपथ ग्रहण(संभावित) है। हाईकमान ने तीरथ कैबिनेट के मंत्रियों पर मंंथन कर लिया है औऱ नाम फाइनल कर दिया है जिनके नाम बंद लिफाफे में है। आफको बता दें कि हाईकमान तीरथ कैबिनेट में युवा, ताजा चेहरे शामिल कर सकता है। तीरथ कैबिनेट में पुराने कुछ मंत्रियों की छुट्टी हो सकती है जो त्रिवेंद्र कैबिनेट में मंत्री थे। एक मंत्री जिनका नाम सीएम की दावेदारी में आगे था, उनकी भी छुट्टी हो सकती है। तीरथ कैबिनेट को छांटने की जिम्मेदारी हाईकमान ने ली है क्योंकि नई कैबिनेट में कई युवा चेहरों को जगह मिल सकती है और त्रिवेंद्र कैबिनेट के कुछ मंत्रियों की छुट्टी हो सकती है और हाई कमान नहीं चाहता कि तीरथ सिंह रावत इनका चयन करें और पहली कैबिनेट के मंत्री उनसे रुठ जाएं। क्योंकि चुनाव के लिए कम समय बचा है ऐसे में अगर तीरथ सिंह रावत मंत्रियों का चयन करते हैं तो हो सकता कई मंत्री उनसे रुठ जाएं। जिनकों मनाने का समय सीएम तीरथ रावत के पास नहीं होगा क्योंकि समय कम है और काम ज्यादा है।हाई कमान पुराने मंत्रियों के कामों से प्रदर्शन ने खुश नहीं है तो हो सकता है कि पुराने मंत्रियों हटाकर नए चेहरे को शामिल कर सकते हैं।

बंशीधर भगत की जा सकती है प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी

वहीं बता दें कि सूत्रों के हवाले से खबर है कि बंशीधर भगत की प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी जा सकती है और उनकी जगह शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक को प्रदेश अध्यक्ष की कुर्सी मिल सकती है जिससे ब्राह्मण समाज के लोगों और मैदान के मतदाताओं को संतुष्ट करने की कोशिश की जाएगी। मदन कौशिक के गुरुवार के दिल्ली दौरे और केंद्रीय नेताओं से मुलाकात को इसी से जोड़कर देखा जा रहा है। वहीं बंशीधर भगत को कैबिनेट में जगह मिल सकती है। वहीं बता दें कि अगर मदन कौशिक प्रदेश अध्यक्ष बनते हैं तो उनकी जगह विधायक यतीश्वरानंद ले सकते हैं जो की हरिद्वार ग्रामीण से विधायक हैं।

युवा चेहेर खजानदान-धामी को मिल सकती है जगह

खजानदान-धामी जो की युवा चेहरा हैं उन्हे तीरथ कैबिनेट में जगह मिल सकती है। धामी-यतीश्वरानंद भी युवा हैं जिनके नाम पर मुहर हाईकमान लगा सकता है। खजानदास के पास पूर्व मंत्री का अनुभव है। साथ ही नाम तो विनोद चमोली औऱ मुन्ना सिंह चौहान का भी चर्चाओं में है। वहीं अगर कुमाऊं से बिशन सिंह चुफाल और पुष्कर धामी मंत्री बनते हैं तो इसका फायदा चमोली को ब्राह्मण का फायदा मिल सकता है। ऋतू खंडूरी को भी कैबिनेट में रखा जा सकता है। लेकिन ऋतू और विनोद चमोली में से किसी एक को ही जगह मिल सकती है। रेखा आर्य अगर तीरथ कैबिनेट में जगह नहीं बना पाईं तो ऐसे में खजान दास को जगह मिल सकती है क्योंकि अनूसूचित जाति के लोगों को भी निराश नहीं किया जा सकता है। अगर वो निराश हुए तो वोट पर असर पड़ेगा।

वहीं महिला मंत्री के तौर पर चंद्रा पंत को भी तीरथ कैबिनेट में शामिल किया जा सकता है लेकिन फिर ऋतू खंडूरी का मुश्किल है मंत्री बनना।चुफाल मजबूत और युवा चेहरा हैं जो की मंत्री औऱ प्रदेश अध्यक्ष रह चुके हैं। पुष्कर धामी को मजबूत मंत्री दावेदार माना जा रहा है क्यों कि वो पिथौरागढ़ उधमसिंह नगर में युवाओं का समीकरण पूरा करते हैं। मदन कौशिक के हटने पर यतीश्वरानंद का नाम काटना नामुमकिन सा है।

The post हर समीकरण को साधती दिखेगी तीरथ कैबिनेट, युवा औऱ अनुभवियों का समावेश first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top