देहरादून : देहरादून समेत पूरे प्रदेश भर मं उत्तराखंड पुलिस द्वारा भिक्षावृत्ति को रोकने के लिए अभियान चलाया है जिसका नाम है ऑपरेशन मुक्ति. पुलिस ने बच्चों को भिक्षावृ्त्ति के जाल से निकालकर स्कूल भेजने की मुहिम छेड़ी है। पुलिस का उद्देश्य बच्चों से सड़कों पर भीख मंगवाना नहीं बल्कि स्कूल भेजना है। देहरादून पुलिस ने इस मुहिम को आगे बढ़ाया और भिक्षावृत्ति में संलिप्त बच्चों के परिजनों समेत लोगों को जागरुक किया कि बच्चों के हाथों में भीख का कटोरा नहीं बल्कि कॉपी किताब पेंसिल और बैग दें ताकि वो आगे बढ़ें। पढ़ें लिखें और देश के विकास में काम आएं।

इसी मुहिम के तहत देहरादून पुलिस द्वारा भी प्रदेश में बाल भिक्षावृत्ति की रोकथाम और भिक्षावृत्ति में लिप्त बच्चों को शिक्षा के प्रति जागरूक कर स्कूलों में दाखिला करने व उनके पुनर्वास के लिए 1 मार्च से 30 अप्रैल तक ’’आपरेशन मुक्ति’’ अभियान चलाया जा रहा है। इसी के मद्देनजर नोडल अधिकारी/क्षेत्राधिकारी नग  शेखर चन्द सुयाल के नेतृत्व में आज 26 मार्च को देहरादून के राजकीय बालिका इण्टर काॅलेज ब्रहम्पुरी पटेलनगर में एक जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया गया। उक्त कार्यक्रम में ऑपरेशन मुक्ति की समस्त टीमों सहित राजकीय बालिका इण्टर काॅलेज ब्रहम्पुरी की प्रधानाचार्या सहित समस्त शिक्षिकाओं, अन्य स्टाफ व स्कूल की लगभग 200 छात्राओं द्वारा प्रतिभाग किया। इस कार्यक्रम में भीख मांगने वाले बच्चों को शिक्षा की ओर अग्रसर करने के लिए लोगों को भी जागरुक किया गया। बता दें कि उत्तराखंड पुलिस की इस पहल में स्कूली छात्राओं द्वारा भी काफी रूचि ली गयी।

The post देहरादून पुलिस की मुहिम : बच्चों के हाथ में भीख का कटोरा नहीं बल्कि कॉपी-किताब और पेंसिल दो first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top