कोरोना के कहर को देखते हुए कई पाबंदियां लगाई गई है कई राज्यों में शराब के ठेके बंद कर गए तो वहीं उत्तराखंड में शराब के ठेके 2:00 बजे तक खुले होने की अनुमति दी गई है। इस संकट की घड़ी में देश का और परिवार का साथ देने की जगह गलत कदम उठा रहे हैं। आज की युवा पीढ़ी नशे की इतनी आधी हो गई है कि अपनी जिंदगी को बर्बाद कर रहे हैं और साथ ही अपने परिवार को रोता छोड़ जा रहे हैं।

मामला महाराष्ट्र का है जहां यवतमाल जिले से एक दिल दहला देने वाली सूचना आई है। यहां लाॅकडाउन के चलते शराब के ठेके बंद किये जाने से परेशान शराबियों ने सैनिटाइजर पीकर नशा किया। इन लोगों ने दारू की जगह सेनेटाइजर पार्टी रखी और इसे पीने से एक के बाद एक सातों दोस्तों की मौत हो गई।

यह हैरान कर देने वाला घटनाक्रम यवतमाल जिले के वणी शहर का है। आपको बता दें कि महाराष्ट्र ने इन दिनों शराब की सभी दुकानें बंद कर दी हैं, जिस कारण नशे के आदि लोग अलग-अलग तरह के विकल्प तलाश रहे हैं। बताया जा रहा है कि मरने वाले लोगों ने पांच लीटर का कैन खरीदा और महफिल जमा ली। इन लोगों को किसी ने कह दिया था कि एक मिली लीटर सैनिटाइजर में एक पव्वे का नशा होता है। इसीलिए यह खरीदे गये 5 लीटर सेनेटाइजर को बराबर मात्रा में गटक खये। कुछ ही देर में इनकी हालत बिगड़ने लगी और एक के बाद एक सातों दोस्तों की मौत हो गई। पुलिस ने मौके पर आकर घटना की जानकारी ली तथा पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंप दिये हैं।

उल्लेखनीय है कि विगत वर्ष भी लाॅकडाउन के दौरान शराब के ठेके पूरी तरह बंद किये जाने के बाद आंध्र प्रदेश सहित देश के विभिन्न हिस्सों में कई लोगों की मौत सेनेटाइजर पीने से हो चुकी है। बहुत से लोगों में यह भ्रांति है कि Sanitizer शराब का विकल्प है, जबकि सच्चाई तो यह है कि सेनेटाइजर यदि शरीर के भीतर जाये तो यह मौत का कारण बन सकता है।

The post शराब के ठेके थे बंद, दोस्तों ने रख दी सैनिटाइजर पार्टी, एक के बाद एक 7 की मौत first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top