देहरादून: हल्द्वानी से पुलिस ने एक साइबर ठग को पकड़ा। जांच के बाद पूछताछ में उसने जो खुलासे किए, वो बेहद चैंकाने वाले हैं। उसने जो राज खोले हैं। उसके अनुसार साइबर ठगी का सरगना उत्तराखंड के अल्मोड़ा का नवीन है। उसका एक साथी यूपी के प्रतापगढ़ जिले में रहने वाला गौरव मिश्रा है। यह दोनों ही पूरा गिरोह चलाते हैं। यह गिरोह हरियाणा, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड और दिल्ली तक फैला हुआ है। अब पुलिस इन दोनों सरगनाओं के गिरबां तक पहुंचने के लिए हाथ बढ़ा रही है।

कानपुर के सराय बाजार निवासी जफर मंसूरी एक निजी मोबाइल कंपनी का प्रमोटर है और दिल्ली में रहकर काम करता था। उसने बताया है कि दिल्ली के जखीरा निवासी दीपक और रूबी इस धंधे में उसका साथ देते थे। तीनों ही ठगी के लिए फर्जी तरीके से सिम जारी कराते थे और दूसरे सदस्यों को बेच देते थे। इसके बदले इन्हें कमीशन भी मिलता था। मामले खुलासा ऐसे हुआ कि एक सिम ऐसा भी इश्यू किया गया था, जिसमें रूबी ने अपनी खुद की फोटो लगाई थी और उस पर प्रिया तिवारी नाम लिख दिया था। करीब पांच माह पहले दीपक और रूबी को गिरफ्तार किया गया था। इसके बाद जफर पकड़ में आया है।

पिछले साल सितंबर में कंसाला निवासी संजय कुमार के पास एक फोन कॉल आई थी, जिसके बाद उसके पंजाब नेशनल बैंक के खाते से कई किश्तों में 1.98 लाख निकाल लिए गए। उसकी शिकायत मिलने पर जांच शुरू हुई और तो पता चला कि जो रकम निकाली गई, वह जींद के एक युवक के खाते में भेजी गई थी। पुलिस ने उसे पकड़ा तो उसने बताया कि उसका खाता हैक हो चुका है और उसे नहीं पता कि रकम आई है या नहीं।

जांच आगे बढ़ी तो पता चला कि जींद के युवक के खाते से यह रकम दिल्ली के प्रेमचंद शर्मा नाम के व्यक्ति के खाते में भेज दी गई। पुलिस प्रेमचंद शर्मा तक पहुंची तो वह खाता फर्जी पते पर मिला। आखिर में यह रकम फिन केयर स्मॉल फाइनेंस बैंक के खाते में ट्रांसफर कर दी गई। पुलिस उस खाते की जानकारी जुटा रही थी, तभी पता चला कि यह रकम गाजियाबाद में इंडसइंड बैंक की एक एटीएम से कैश निकाल ली गई है।

The post उत्तराखंड: पूरे देश में फैला है साइबर ठगी का जाल, यहां का रहने वाले है सरगना first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top