गैरसैंण: जंगलों में लगी भीषण आग का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा है। आग की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं। केवल जंगल ही नहीं, बल्कि ये आग गांवों तक पहुंच रही है। इससे लोगों की जान खतरे में पड़ रही है। लोगों के घरों को भी खतरा हो गया है। फसलें जल रही हैं। गैरसैंण के सौनियाणा गांव के पीछे जंगल में लगी आग बुझाने गए गैरसैंण गडोली गांव के बुजुर्ग की जलकर मौत हो गई।

जानकारी के अनुसार बुजुर्ग खेत में हल चलाने के बाद जंगल में लगी आग बुझाने गए थे लेकिन वह आग की लपटों से घिर गए और उनकी जलकर मौत हो गई। मंगलवार को सौनियाणा गांव के पीछे के जंगल में आग लगी थी। पूर्वाह्न 11 बजे गडोली गांव निवासी रघुवीर लाल (65) पुत्र हिवांराम वहीं आसपास हल चला रहा था। आग लगती देख रघुवीर लाल आग बुझाने जंगल में चला गया लेकिन आग अचानक भड़क उठी और वह आग की लपटों में घिर गया जिससे उनकी जलकर मौत हो गई।

सूचना पर गैरसैंण पुलिस, दमकल यूनिट और वन विभाग के कर्मचारी मौके पर पहुंचे। रेंजर प्रदीप गौड़ ने बताया कि किसी अज्ञात ने नौ बजे प्रातरू जंगल में आग लगाई थी। मृतक रघुवीर लाल लोनिवि में गेंग मेट के पद से पांच साल पहले रिटायर हुआ था। उसके घर में पत्नी, बेटा (32), बहू और तीन पोते हैं। उनका बेटा भी खेतीबाड़ी करता है जबकि उनकी तीन बेटियों की शादी हो चुकी है। उन्होंने बताया कि पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए कर्णप्रयाग भेज दिया है।

The post उत्तराखंड: जंगल की आग बुझाते-बुझाते खुद लपटों के बीच फंसे बुजुर्ग, जलकर मौत first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top