देहरादून: कोरोना कहर लगातार बढ़ता जा रहा है। कोरोना ने जिस तेजी से वापसी की है। उससे देश के अधिकांश राज्यों ने पाबंदियां लगानी शुरू कर दी हैं। कोरोना का साया चारधाम यात्रा पर भी मंडराने लगा है। यात्रा में बाहरी राज्यों से आने वाले तीर्थ यात्रियों को कोरोना निगेटिव जांच रिपोर्ट या वैक्सीनेशन सार्टिफिकेट लाना होगा।

पर्यटन मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि लगातार बढ़ रहे संक्रमण को देखते हुए चारधाम यात्रा में आने वाले यात्रियों के लिए कोरोना निगेटिव रिपोर्ट या वैक्सीनेशन प्रमाण पत्र की अनिवार्यता रहेगी। उन्होंने कहा कि केंद्र के दिशा-निर्देशों का पालन करते हुए चारधाम यात्रा प्रारंभ की जाएगी। हर धाम में एक दिन में कितने तीर्थ यात्री दर्शन कर सकते हैं, इसकी क्षमता भी निर्धारित होगी। पिछले साल भी कोरोना संक्रमण के बीच अच्छे ढंग से यात्रा संचालित की गई थी।

इसके साथ ही कोविड नियमों के तहत धामों में सोशल डिस्टेंसिंग, मास्क पहनना, सैनिटाइजेशन का सख्ती से पालन कराया जाएगा। चारधाम यात्रा 14 मई को गंगोत्री के कमपाट खुलने के साथ ही से शुरू होगी। इसी यमुनोत्री धाम के कपाट भी खुलेंगे। केदानाथ धाम के कपाट 17 मई को और बदरीनाथ धाम के कपाट 18 मई को खुलेंगे। मई से शुरू होने वाली यात्रा के लिए जीएमवीएन के होटलों में तीन करोड़ रुपये की एडवांस बुकिंग हो चुकी है। वहीं, पांच दिन में केदारनाथ हेली सेवा के लिए 8762 टिकटों कीऑनलाइन बुकिंग की गई है।

The post उत्तराखंड : चारधाम यात्रा पर कोरोना का खतरा, साथ लानी होगी Corona निगेटिव रिपोर्ट first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top