उत्तराखंड में बढ़ते कोरोना मरीजों की संख्या को देखते हुए अब शादी समारोहों में सिर्फ 25 लोगों के शामिल होने की अनुमति होगी। सचिवालय में आयोजित वीडियो कांफ्रेंसिग द्वारा  शासन के वरिष्ठ अधिकारियों और जिलाधिकारियों के साथ कोविड की स्थिति की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने इस संबंध में निर्देश दिए हैं। इसके साथ ही सीएम ने सीएम राहत कोष से आशा कार्यकर्ताओं को एक-एक हजार रूपए की प्रोत्साहन राशि उपलब्ध कराने के निर्देश दिए हैं।

सीएम ने कहा है कि ग्रामीण बाज़ारों में भी बाज़ार खुलने के समय को ज़िलाअधिकारी अपने अनुसार घटा सकते हैं। सचिवालय में आयोजित वीडियो कांफ्रेंसिग द्वारा  शासन के वरिष्ठ अधिकारियों और जिलाधिकारियों के साथ कोविड की स्थिति की समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री ने डोर टू डोर सर्वे के निर्देश दिये, इसके साथ ही 104 के अतिरिक्त सीएम हेल्पलाइन और पुलिस विभाग के कॉल कॉलसेंटर में फोन लाईनों की संख्या बढाई जाए।

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए कि कॉलसेंटर और हेल्पलाईन पूरी तरह से सक्रिय रहें और बेड, इंजेक्शन सम्बंधी जानकारी भी अपडेट रहे । आक्सीजन के सिलेंडरों की संख्या बढाने के लिये हर सम्भव कोशिश की जाए। इसमें विभिन्न संगठनों, उद्योगों की सहायता भी ली जा सकती है। कोविड अस्पतालों में भर्ती मरीजों को भोजन, पानी जैसी सुविधाएं उपलब्ध कराने में कोई ढिलाई न हो। इसके साथ ही छोटे- छोटे स्थानों में सेनेटाइजेशन  का काम किया जाए जहां संक्रमण की अधिक सम्भावनाएं हैं ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आक्सीजन प्लांटों में बिजली की निर्बाध आपूर्ति हो। सभी कोविड केयर सेंटर व अस्पतालों में फायर सेफ्टी सुनिश्चित की जाए।  कोविड टेस्ट की रिपोर्ट में समय न लगे। टेस्ट होते ही तुरंत सभी को कोविड किट दिया जाए। शासन से जो भी निर्देश दिये जाते हैं, उनका प्रभावी क्रियान्वयन हो। टेस्ट सेंटरों और वैक्सीनैशन सेंटरों में कोविड प्रोटोकॉल का ध्यान रखा जाए। ई-संजीवनी पोर्टल को और प्रभावी बनाते हुए प्रचारित किया जाए ताकि जन सामान्य उसका अधिक लाभ उठा सके। होम आइसोलेशन में रहने वालों को मालूम होना चाहिए कि उन्हें किन बातों का ध्यान रखना है। मुख्यमंत्री ने कहा कि बाहर से आने वालों का रजिस्ट्रेशन अनिवार्य है। इसका पालन कङाई से हो। सरकारी व निजी अस्पतालों में कोविड मरीजों की व्यवस्था को लगातार क्रास चैक करवाया जाए। संबंधित मरीजों और उनके परिजनों से इसका फीड बैक लिया जाए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोविड मरीज़ों हेतु एम्बुलेंस की दरें निर्धारित की जाए ताकी ओवररेटिंग जैसी शिकायत ना हो ।दवाओं के कालाबाजारी को रोकने के लिए 147 एसटीएफ टीमें बनाई गई हैं। अभिसूचना तंत्र को मजबूत किया जाए। सरकारी अस्पतालों के साथ ही प्राईवेट अस्पतालों में भी आक्सीजन बेड की उपलब्धता की व्यवस्था को पारदर्शी बनाया जाए।

 

The post अब शादी में सिर्फ 25 लोगों की अनुमति, आशा कार्यकर्ताओं को एक हजार बोनस का ऐलान first appeared on Khabar Uttarakhand News.





1 comments:

  1. The Disasters of the Indian Nation,does not END.They have 350000 daily positive cases - at a strike rate of 10% - which makes for 3.5 million tests

    Assuming the Marginal Cost of 1 USD per test (as the salaries of the Docs and the Hospital infra,is a fixed cost) - that is USD 3.5 Million
    per DAY.At this rate,in 1 year,it will be USD 1 Billion - DOWN THE DRAIN !

    The Indian Daily positive count rises by 20,000,and the RTPCR report,takes 3 days - in which time,at least 1 million positives will infect,at least 3-5 more -
    which means that,in 3 days,the Positive Count IN THE FUTURE,will rise by 5 million, at THE MINIMUM - on this COUNT ALONE.

    3.5 million CANNOT BE UNDER QUARANTINE EVERY DAY ! It is IMPRACTICAL !

    LE CLASSIQUE DIS-ASS-TER !

    The Indians are betting on a PEAK in Mid May - in their DREAMS !

    As the number of TESTS INCREASE, the time to get the RTPCR time lag will increase,and the daily incremental positives will rise - and so,there will NEVER BE A PEAK -
    unless the GOI REDUCES the TESTS,PER SE - which will be ANOTHER DIS-ASS-TER !

    Also,the 3.5 million tested every day - SHOULD BE compulsorily VAXED free of cost - at least that will ensure 100 million VAXES in 30 days ! Indian COVID
    strains are not being detected in the RTPCR - which is the BIGGEST DISASTER - and so,whoever is tested - should be VAXED for the sake of safety !

    Although,once the virus is embedded in the lungs - the VAX is of limited use !

    Whichever way you see it - it is complete DESTRUCTION and DIS-ASS-TER ! dindooo hindoo

    ReplyDelete

See More

 
Top