देहरादून: केदारनाथ धाम और बद्रीनाथ धाम तक रेल पहुंचाने का सर्वे पूरा कर लिया गया है। प्रस्तावित रेल लाइन का सीमांकल, सर्वेक्षण और चिह्नीकरण का का भी पूरा कर लिया गया है। कर्णप्रयाग-केदारनाथ रेल लाइन की लंबाई सोनप्रयाग तक 91 किमी होगी। कर्णप्रयाग-बदरीनाथ रेल लाइन की लंबाई जोशीमठ तक 68 किमी होगी। रेलवे विकास निगम लिमिटेड (RVNL) ने सभी चिह्नित जगहों पर पिलर भी लगा दिए हैं।

कर्णप्रयाग से केदारनाथ तक 6, जबकि कर्णप्रयाग से बदरीनाथ तक 5 स्टेशन होंगे। कर्णप्रयाग से आगे साइकोट, बड़ेथ, चोपता-फलासी (तल्ला नागपुर), मक्कूमठ, गडगू व सोनप्रयाग शामिल हैं। इनमें चोपता-फलासी, मक्कूमठ और गडगू में बनने वाले स्टेशन अंडरग्राउंड होंगे। बदरीनाथ रेल लाइन पर कर्णप्रयाग से आगे साइकोट, त्रिपाक, पीपलकोटी, हेलंग व जोशीमठ में बनने वाले स्टेशनों का सीमांकन कार्य भी पूरा हो चुका है।

RVNL के सीनियर मैनेजर (सर्वे) सिद्धार्थ चैहान ने बताया कि केदारनाथ रेल लाइन 19 सुरंगों से होकर गुजरेगी। इनमें सबसे बड़ी सुरंग 17 किमी लंबी होगी। जबकि, बदरीनाथ रेल लाइन पर 11 सुरंग बननी हैं। इनमें सबसे बड़ी सुरंग 14 किमी लंबी होगी।

The post उत्तराखंड: बद्री-केदार पहुंचेगी रेल, बनेंगी 30 सुरंगें और 11 स्टेशन, सर्वे पूरा, लगाए पिलर first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top