लक्सर: हरिद्वार में किसानों के सामने यूरिया की बड़ी किल्लत आ रही है। किसानों की फसलों का इस समय सबसे महत्वपूर्ण समय है। उनको यूरिया उर्वरक की बेहद जरूरत है, लेकिन जो उर्वरक सहकारी समितियों पर आ रहा है। उसे समितियों पर काम कर रहे कर्मचारी बिना रिकॉर्ड के ही अपने चहेतांे को बेच रहे हैं। कई बार मामला ब्लैक में बेचने का भी सामने आया है।

किसान सेवा सहकारी समिति एथल बुजुर्ग पर यूरिया से भरी दो गाड़ियां आई, जिन्हें किसानों में वितरण किया जाना था। समिति में बैठे डायरेक्टर व समिति कर्मचारियों ने कुछ लोगों को आधार कार्ड के हिसाब से प्रति व्यक्ति 3 बोरे दे दिए, लेकिन कुछ ही देर बाद खाद खत्म होना बताया गया, जिससे किसानों में गुस्सा छा गया और वह भड़क गए। किसान वहीं धरने पर बैठ गए हैं।

किसान सेवा सहकारी समिति एथल बुजुर्ग के कर्मचारी यूरिया के बोरे ब्लैक में बेच रहे हैं, जबकि किसानों को यूरिया नहीं दिया जा रहा है। किसानों ने बताया कि उनकी आधार कार्ड मशीन के जांच पुलिस अधिकारियों के सामने कराई गई है, जिससे एक बड़ा खुलासा हुआ। किसान सहकारी समिति कर्मचारियों द्वारा 436 बोरी यूरिया ब्लॉक कर दिया गया है।

The post उत्तराखंड: यूरिया वितरण में बड़ा घोटाला, 436 बोरों का नहीं मिला रिकॉर्ड, किसानों का धरना first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top