देहरादून: देहरादून की क्लेमेंटाउन पुलिस और एसओजी को बड़ी सफलता हाथ लगी है। बता दें कि क्लेमेंटाउन पुलिस और एसओजी की टीम नेब्लैक फंगस बीमारी में प्रयोग होने वाले इंजेक्शन की कालाबाजारी करते हुए तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया। पुलिस ने उनके कब्जे से 5 इंजेक्शन बरामद किए।

बता दें कि 8 जून1 को थाना क्लेमेंट टाउन पर डायल 112 से सूचना मिली कि कॉलर हिमांशु शर्मा निवासी तिलक बाजार रोड सुभाष नगर भारूवाला ग्रांट की एक रिश्तेदार प्रीति ब्लैक फंगस से पीड़ित हैं और उनको इलाज के लिए Liposomal Amphotericin B Injection 50mg एडवाइज किया गया है जो कि मार्केट से उपलब्ध नहीं हो पा रहा है। कॉलर से कोई व्यक्ति मूल्य से अधिक पैसे की मांग में इंजेक्शन उपलब्ध करवाने के लिए बोल रहा है। इस सूचना पर थानाध्यक्ष क्लेमेंट टाउन कॉलर के निवास स्थान पर पहुंचे जहां पर कॉलर के परिजन मिले जिनके द्वारा बताया गया कि हिमांशु जॉली ग्रांट हिमालयन अस्पताल में है। कॉलर से बात की गई।

कॉलर द्वारा अपने द्वारा दी गई सूचना की पुष्टि करते हुए बताया कि उनकी रिश्तेदार प्रीति ब्लैक फंगस से पीड़ित है और हिमालयन हॉस्पिटल जोलीग्रांट में भर्ती है जिसको इलाज के लिए Liposomal Amphotericin B Injection 50mg की आवश्यकता है जिसके लिए मेरे द्वारा कई लोगों को कॉल किया गया। वह फेसबुक पर भी इस संबंध में पोस्ट डाली गई तो मुझे एक व्यक्ति द्वारा कॉल करके इंजेक्शन उपलब्ध करवाने की बात कही गई।साथ ही व्हाट्सएप पर भी मैसेज भेजा गया जो इंजेक्शन 8500 रुपए में देने की बात कर रहा है जोकि निर्धारित मूल्य से अधिक है।

इस सूचना पर तत्काल कार्रवाई करते हुए एसओजी के साथ मिलकर कॉलर द्वारा उपलब्ध कराए गए मोबाइल नंबर की लोकेशन प्राप्त की गई तो लोकेशन जौलीग्रांट में पायी गई।

संयुक्त पुलिस टीम ने इंजेक्शन की कालाबाजारी की पर कार्रवाई करते हुए हिमालयन चौक जौलीग्रांट के पास से तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया।साथ ही उनके कब्जे से 05 इंजेक्शन बरामद किए गए। आरोपियों के विरुद्ध थाना क्लेमेंट टाउन पर मुकदमा अपराध संख्या 107/ 21 धारा 420,188, 269, 270 आईपीसी में 52/53 आपदा प्रबंधन अधिनियम तथा धारा 3 महामारी एक्ट में अभियोग पंजीकृत किया गया।

पूछताछ में अभियुक्त वसीम सिद्दीकी ने बताया गया कि मैं यह इंजेक्शन अहमदाबाद से लेकर आया हूं और हम तीनों मिलकर इन्हें यहां ऊंचे दामों पर बेचने आए थे। इससे पूर्व में भी हमने इस महामारी में कई प्रकार की दवाइया/ इंजेक्शन को बड़े-बड़े अस्पतालों के आसपास घूम कर जरूरतमंद लोगों को ऊंचे दामों पर बेचा है।

आरोपी

1- वसीम सिद्दीकी पुत्र मोहम्मद शफीक हाल निवासी – आशीर्वाद एनक्लेव देहरा खास देहरादून मूलनिवासी- लोअर बाजार पौड़ी थाना पौड़ी जिला पौड़ी गढ़वाल उम्र 30 वर्ष

2- राकेश थपलियाल पुत्र परशुराम थपलियाल हाल निवासी -नकरौंदा रोड हर्रावाला थाना डोईवाला देहरादून मूल निवासी- ग्राम नागनाथ पोखरी थाना पोखरी जिला चमोली उम्र 48 वर्ष

3- अनुज थपलियाल पुत्र राकेश थपलियाल हाल निवासी- नकरौंदा रोड हर्रावाला थाना डोईवाला देहरादून मूल निवासी- ग्राम नागनाथ पोखरी थाना पोखरी जिला चमोली उम्र 23 वर्ष

निर्देशन/मार्गदर्शक अधिकारी
1- सरिता डोभाल पुलिस अधीक्षक नगर देहरादून
2 अनुज कुमार क्षेत्राधिकारी सदर देहरादून

पुलिस टीम
1- निरीक्षक ऐश्वर्या पाल सिंह, प्रभारी एसओजी
2-थानाध्यक्ष क्लेमेंट टाउन धर्मेंद्र सिंह रौतेला
3- वरिष्ठ उपनिरीक्षक शोएब अली थाना क्लेमेंट टाउन
4-कांस्टेबल प्रदीप नौटियाल थाना क्लेमेंट टाउन
5-कांस्टेबल ललित एसओजी
6-कांस्टेबल विपिन एसओजी
7- कांस्टेबल आशीष एसओजी
8- कांस्टेबल किरण एसओजी

The post उत्तराखंड: ब्लैक में बेच रहा था ब्लैक फंगस का इंजेक्शन, पुलिस ने यहां से किया गिरफ्तार first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top