हल्द्वानी: छह महीने पहले हल्द्वानी शहर में 13 जगहों पर यातायात सुचारू करने के लिए एक करोड़ की लागत से ट्रैफिक लाइट लगाई गई थी। लेकिन यह ट्रैफिक लाइट अब सफेद हाथी साबित हो रही हैं। पुलिस प्रशासन बार बार इनके ट्रायल की बात तो कहता है लेकिन अब तक हालात जस के तस हैं। क्योंकि इन ट्रैफिक लाइटों को ऐसी जगह लगा दिया गया। जहां इनका कोई इस्तेमाल ही नहीं हो सकता।

अधिकतर जगह सड़क में लेफ्ट टर्न नहीं है या सड़कें छोटी हैं। ये ट्रैफिक लाइट अब सड़कों पर शोपीस बनकर रह गई है। और हल्द्वानी शहर में जाम के हालात बद से बदतर होते जा रहे हैं आये दिन स्थानीय लोगों के साथ ही पर्यटकों को भी जाम से जूझना पड़ रहा है। ट्रैफिक लाइट में करोड़ों का बजट तो खर्च कर दिया गया लेकिन उसका इस्तेमाल नही हो पा रहा है।

जिसका खामियाजा दूरदराज से आने वाले पर्यटकों को जाम में फंसकर भुगतना पड़ रहा हैं। वही,ं एसपी ट्रैफिक का कहना है कि लाइटों का ट्रायल कर लिया गया है और जल्द ही सभी ट्रैफिक लाइटों को शुरू कर शहर को जाम से निजात दिलाई जाएगी। पुलिस हर बार दावे करती है कि इनको जल्द चालू किया जाएगा, लेकिन ट्रैफिक लाइटें अब तक चालू नहीं हो पाई हैं।

The post उत्तराखंड : शहर जाम से बेहाल, 1 करोड़ से ज्यादा खर्च करने के बाद भी ट्रैफिक लाइटें बंद first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top