राजस्थान: आपने कई ईमानदार अधिकारियों को देखा होगा। उनके काम की मिसालें सुनी होंगी। उनके साथ काम के दौरान हुई घटनाओं के किस्से और कहानियां भी सुनी होंगी। आज हम आपको एक ऐसे जाबांज आईपीएस अफसर की कहानी बताने वाले हैं, जिनके बारे में सोचने से ही घूसखोर कांप उठते हैं। घूसखोर घूस लेने से घबराने लगते हैं। उन्होंने ऐसे-ऐसे कारनामे कर दिखाए, जिनके बारे में किसी ने सोचा भी नहीं होगा। वो खुद 7 साल जेल में रहे, लेकिन जब जेल से छूटकर आए तो घूसखोर अफसरों पर कहर बनकर टूट पड़े। आईएएस से लेकर आईपीएस और अन्य अधिकारियों को घूसखोरी के मामलों में सलाखों के पीछे पहुंचा चुके हैं।

भ्रष्ट आईएएस, आईपीएस, एसडीएफ और दूसरे अधिकारियों पर आरोप लगते तो सुने होंगे, लेकिन ज्यादातर मामलों में ऐसे ऊंची पहुंच वाले अफसरों पर कार्रवाई नहीं होती है, लेकिन राजस्थान के आईपीएम अफसर दिनेश एमएन ऐसा नाम हैं, जिनका नाम सुनकर ही भ्रष्टाचार करने वाले डर जाते हैं। इन्होंने जब से राजस्थान भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की कमान संभाली और घूसखोरों अफसरों से जेल भर दी।

देश में यह पहली बार है कि महज छह माह में ही सरकार की किसी स्टेट एजेंसी ने रिश्वतखोर एक आईएएस, एक आईपीएस, सात आरएएस और तीन आरपीएस अधिकारियों को जेल पहुंचाया हो। कलेक्टर, एसपी और कई आरएएस अधिकारी तो अभी भी सलाखों के पीछे ही हैं। राजस्थान एसीबी हेल्पलाइन नंबर 1064 दिनेश एमएन कहते हैं कि रिश्वत लेने व देने वालों के खिलाफ राजस्थान एसीबी सालभर कार्रवाई करती रहती है, मगर महानिदेशक बीएल सोनी के निर्देशन में हमारी टीमें हर शिकायत को गंभीरता से ले रही है। कोई हमें एसीबी की हेल्पलाइन 1064 नंबर व वाट्सएप 9413502834 पर कॉल करके भी शिकायत कर सकता है।

इनको कर चुके गिरफ्तार

आईपीएम अफसर दिनेश एमएन ने आईएएस इंद्रसिंह राव, बारां कलेक्टर के निजी सचिव महावीर को 11 दिसम्बर 2020 को एक लाख 40 हजार रुपए की घूस के मामले में पकड़ा था। फिर आईएएस इंद्र सिंह राव को कोटा सेंट्रल जेल पहुंचाया। दौसा के एसपी आईपीएस मनीष अग्रवाल को राजस्थान के दौसा से गुजर रहे मुम्बई-दिल्ली एक्सप्रेस-वे का निर्माण करने वाली कंपनी से दस लाख रुपए की रिश्वत के मामले में दलाल गोपाल सिंह व दौसा के तत्कालीन पुलिस अधीक्षक मनीष अग्रवाल को पकड़कर सलाखों के पीछे पहुंचाया।

डीएसपी भैरूंलाल मीणा, एसीबी सवाई माधोपुर एसीबी ने 11 दिसम्बर 2020 को भष्ट्राचार निरोधक ब्यूरो की सवाई माधोपुर चैकी पर पोस्टेड डीएसपी भैरूंलाल मीणा को 80 हजार रुपए की घूस लेते पकड़ा। यह कार्रवाई एंटी करप्शन डे वाले दिन हुई थी। सुबह डीएसपी ने घूस नहीं लेने को भाषण दिया। फिर खुद ही पकड़े गए। यह रकम मासिक बंधी के रूप में देने वाले डीटीओ को भी दबोचा गया।

सपात खान, डीएसपी अलवर ग्रामीण एसीबी ने आठ जनवरी 2021 को सपात खान डीएसपी अलवर ग्रामीण व कांस्टेबल असलम खान को तीन लाख की रिश्वत लेते पकड़ा। इन्होंने एक परिवादी से उसके खिलाफ विभिन्न पुलिस थानों में दर्ज मुकदमों में मदद के नाम से यह घूस ली थी। कैलाश चंद बोहरा, आरपीएस जयपुर आरपीएस कैलाश चंद बोहरा ने रिश्वत में दुष्कर्म पीड़िता से मामले में मदद के नाम पर उसकी अस्मत ही मांग ली। मार्च 2020 में आरपीएस कैलाश चंद बोहरा जयपुर कमिश्नरेट में महिला अत्याचार अनुसंधान यूनिट में तैनात एसीपी पर तैनात था। उसने पीड़िता को मिलने अपने कार्यालय में बुलाया था। तभी एसीबी ने इसे पकड़ लिया था।

दौसा एसडीएम पुष्कर मित्तल व बांदीकुई एसडीएम पिंकी मीणा दौसा रिश्वतकांड 2021 सबसे चर्चित मामलों में से एक है। 14 जनवरी को दौसा एसडीएम पुष्कर कुमार मित्तल और बांदीकुई एसडीएम पिंकी मीणा को मुम्बई-दिल्ली एक्सप्रेस-वे का निर्माण करने वाली कंपनी से पांच लाख की रिश्वत मांगने के आरोप में पकड़कर जेल भिजवाया। आरएएस पिंकी मीणा ने तो फिर 16 फरवरी को जेल से जमानत पर आकर शादी भी रचाई थी। आरएएस सुनील कुमार, एसडीएम गुढ़ामालानी बाड़मेर छह फरवरी 2021 को बाड़मेर जिले के गुढ़ामालानी के एसडीएम सुनील कुमार व उनके चालक दुर्गाराम को दस हजार की रिश्वत के ममाले पकड़कर जेल भिजवाया। सुनील कुमार 2019 में ही पदोन्नत होकर आरएएस अधिकारी बना था।

वीरेंद्र कुमार आरएएस अधिकारी आठ मार्च 2021 को वीरेंद्र कुमार आरएएस अधिकारी जेसीटीएसएल जयपुर, नरेश सिंघल पारस ट्रेवल्स एवं महेश कुमार गोयल लेखाधिकारी को ट्रेंडर प्रक्रिया में पारस ट्रेवल्स दिल्ली को अनुचित लाभ देने की एवज में चार लाख की घूस लेते हुए एसीबी ने अरेस्ट किया था।

आरएएस बीएल मेहरड़ा, आरएएस सुनील कुमार शर्मा 11 अप्रैल 2021 को अजमेर रेवेन्यू बोर्ड के दो सदस्य आरएएस अधिकारी बीएल मेहरड़ा और सुनील कुमार शर्मा को हर मुकदमे में घूस लेने के आरोप में दबोचा था। आरएएस सुनील झिंगानिया लसाड़िया उदयपुर 14 जून को उदयपुर जिले के लसाड़िया उपखंड अधिकारी आरएएस सुनील झिंगोनिया को एक माइंस मालिक से मासिक पचास हजार रुपये मांगने के मामले में पकड़ा था।

कौन हैं आईपीएस दिनेश एमएन
दिनेश एमएन मूलरूप से कर्नाटक के रहने वाले हैं। दिनेश का जन्म छह सितम्बर 1971 को कर्नाटक के चिक्कबल्लापुर जिले की चिंतामणी तहसील के गांव मुनागनाहल्ली में हुआ। दिनेश एमएन के नाम में एम का मतलब उनके गांव मुनागनाहल्ली और एन मतलब उनके पिता का नाम नारायण स्वामी है। साल 1995 बैच के राजस्थान कैडर के आईपीएस अधिकारी दिनेश एमएन वर्तमान में राजस्थान एसीबी में एडीजी पद पर सेवाएं दे रहे हैं। इन्होंने इलेक्ट्रॉनिक्स एंड टेलीकम्युनिकेशन में बीई की डिग्री प्राप्त कर रखी है।

आईपीएस दिनेश एमएन का सर्विस रिकॉर्ड
आईपीएस बनने के बाद दिनेश एमएन ने साल 1999 में दौसा एएसपी के रूप में राजस्थान पुलिस में सर्विस शुरू की। फिर करौली, झुंझुनूं, सवाईमाधोपुर, अलवर और उदयपुर में एसपी रहे। साल 2005 में उदयपुर एसपी थे तब राजस्थान और गुजरात पुलिस के ज्वाइंट ऑपरेशन में हिट्रीशीटर सोहराबुद्दीन शेख का एनकाउंटर किया गया। इसी केस में दिनेश एमएन सात साल जेल में रहे। जेल से रिहा होने के बाद पहली बार उदयपुर पहुंचे तब इनके स्वागत में लोगों ने पलक पांवड़े बिछा दिए थे।

The post बड़ी खबर: ऐसा अधिकारी, जिसने घूसखोर IAS, IPS, SDM और RAS को पहुंचाया जेल, खुद सलाखों के पीछे रहे 7 साल first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top