हरिद्वार : उत्तराखंड के हरिद्वार की बेटी भारतीय महिला हॉकी टीम की होनहार खिलाड़ी वंदना कटारिया ने ओलंपिक खेल में शानदार प्रदर्शन करने के बाद आज अपने गृह क्षेत्र लौटी तो खेल प्रेमियों ने गर्म जोशी के साथ वंदना कटारिया का स्वागत किया।

दिल्ली से एयर इंडिया की फ्लाइट से 8 बजकर 45 मिनट पर वंदना कटारिया जॉली ग्रांट एयरपोर्ट पहुंची।एयर पोर्ट से बाहर आने पर एयरपोर्ट पर बड़ी संख्या में जुटे खेल प्रेमियों ने वंदना कटारिया का फूल मालाओं से भव्य स्वागत किया।वंदना कटारिया के साथ उनके परिवार के लोग भी मौजूद थे। एयरपोर्ट से वंदना कटारिया का काफ़िला कड़ी सुरक्षा के साथ भानिया वाला से होते हुए हरिद्वार केलिए रवाना हो गया।एयरपोर्ट पर वंदना कटारिया ने मीडिया से बात करते हुए ओलंपिक के अपने अनुभव को सांझा किया और भविष्य में और अच्छे प्रदर्शन से भारतीय महिला हॉकी को और ऊंचाई पर ले जाने की बात कही। एयरपोर्ट पर वंदना के स्वागत के लिए विधायक देशराज कर्ण वाल, ऋषिकेश की मेयर अनीता ममगाई, भीम आर्मी के कार्यकर्ताओं के साथ वंदना की बड़ी बहन रचना और रीना के साथ तमाम लोगों मौजूद रहे।

रोते हुए बोलीं वंदना-मुझे हिम्मत देने वाला चला गया

घर पहुंचते ही मां के गले लग वंदना फफक-फफक कर रो पड़ी और कहा कि मेरी हर असफलता पर मेरी हिम्मत बढ़ा कर मुझे सफलता के लिए दोगुने जोश, मेहनत और उत्साह से तैयारी करने की हौसला देने वाला चला गया। उन्हें इस तरह मां के गले लग पिता की याद में रोता देख वहां मौजूद हर आंख नम हो गयी और माहौल कुछ देर को गमगीन हो गया। वंदना स्वागत समारोह के बाद जैसे ही घर पहुंची तो उसके आंसू छलक पड़े। पिता को याद करते हुए वो मां के गले लग रो उठी। पिता के निधन के बाद वह पहली बार अपनी मां से मिल रही थी। इस दौरान वंदना की मां ने हिम्मत बांधे रखी और बेटी के मन के गुबार को निकलने दिया। बाद में भावुक हुई वंदना को उसकी मां सोरण देवी और भाइयों ने ढांढस बंधाया और चुप कराया।

The post मां के गले लग वंदना फफक-फफक कर रो पड़ी वंदना, कहा- मुझे हौसला देने वाला चला गया first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top