देहरादून की क्लेमेंटाउन पुलिस ने नशा मुक्ति केंद्र से फरार संचालक विद्यादत्त को गिरफ्तार कर लिया है। बता दें कि बीते दिनों नशा मुक्ति केंद्र से फरार 4 युवतियों ने संचालक पर दुष्कर्म का आरोप लगाया था. संचालक विद्यादत्त फरार था जबकि उसकी अन्य साथी विभा को पहले ही गिरफ्तार किया जा चुका है। वहीं बरामद युवतियों को परिजनो को सुपुर्द कर दिया गया हैष

आपको बता दें कि 5 अगस्त को क्लेमेंटाउन के प्रकृति विहार स्थित नशा मुक्ति केन्द्र वॉक एन विन सोबर लिविंग होम से 04 लडंकियां फरार हो गई थी। जिसके बाद कैम्प की संचालिका विभा सिंह ने थाने में सूचना दी गई और सूचना के बाद पुलिस ने सभी होटल और चेक पोस्ट पर तलाश शुरु की तो एक होटल संचालक द्वारा पुलिस को सूचना दी कि लड़कियां उनके होटल में ठहरी हैं। युवतियों को रेसकोर्स के एक होटल से बरामद किया गया।

वहीं पूछताछ में युवतियों ने नशा मुक्ति केन्द्र को चलाने वाले विद्यादत्त रतूड़ी पर उनके साथ दुष्कर्म करने और मारपीट का आरोप लगया। लड़कियों ने बताया कि संचालिका विभा सिंह से शिकायत करने पर उल्टा लड़कियों को मारा गया और विद्या दत्त रतूड़ी का साथ दिया गया। उक्त चारों बरामद लडकियों की तहरीर के आधार पर थाना क्लेमेनटाउन में विभिन्न धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया। पुलिस ने मुख्य संचालिका आरोपी विभा सिंह को उसी दिन गिरफ्तार कर लिया था और विद्यादत्त रतूड़ी फरार हो गया था।

फरार संचालक की गिरफ्तारी के लिए एसएसपी के निर्देश पर क्लिमेंटाउन थानाध्यक्ष ने टीम का गठन किया। टीम द्वारा सटीक पता रस्सी सुराग रस्सी करते हुए मुखबिर की सूचना पर आज  9 अगस्त को आरोपी विद्या दत्त रतूड़ी को होटल रूद्राक्ष ऋषिकेश रोड श्यामपुर से गिरफ्तार कियाजिसे आज माननीय न्यायालय पेश किया जाएगा।

आरोपी ने पूछताछ में किया खुलासा

आरोपी ने पूछताछ में पुलिस को बताया कि उसके पिता एयरफोर्स में कर्मचारी थे तो वो उनके साथ कानपुर रहता था। वहां से ही उसे शराब पीने की लत लगी। बताया कि वो शराब पीने का आदी हो गया था और उसका टिहरी में भी एक महिला के साथ संबंध रहा था जिसके चलते में वर्ष 2017 में टिहरी से जेल भी गया।फिर उसके परिवार वालों ने परेशान होकर उसे साल 2018 में नशा मुक्ति केंद्र एसजी फाउंडेशन सरस्वती विहार देहरादून में भर्ती कराया था, जहां अपने नशे के इलाज के दौरान ही उसने उसी नशा मुक्ति केंद्र में स्टाफ के रूप में काम करना शुरू किया। वहां पर करीब 3 साल तक उसने स्टाफ में काम किया। आरोपी ने बताया कि वहीं विभा सिंह भी शराब पीने की लत के कारण उसी नशा मुक्ति केंद्र में भर्ती हुई थी जिससे मेरी अच्छी जान पहचान हो गई थी और वहीं पर उसने और विभा ने मिलकर अपना नशा मुक्ति केंद्र खोलने का प्लान बनाया था।

आरोपी ने बताया कि इसी साल 2021 में फरवरी में प्रकृति विहार क्लेमेंट टाउन में अपना नशा मुक्ति केंद्र खोला था जहां पर भर्ती उक्त लड़कियां 5 अगस्त को भाग गई थी। उनके भागने पर मुझे पहले से ही डर था कि कहीं मेरे द्वारा इनके साथ किए गए गलत कार्य के बारे में किसी को ना बता दें। जब विभा पुलिस में रिपोर्ट कराने थाने आई तो मैं अंदर नहीं गया था।वो बाहर ही रुक गया था और जब उसे यह पता लगा कि उन लड़कियों को पुलिस ने बरामद कर लिया है तो उसने अपने फोन से अपने दोनों सिम निकाल दिए और अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए वहां से फरार हो गया था।

आरोपी का नाम पता
विद्या दत्त रतूड़ी पुत्र हर्ष मनी रतूड़ी निवासी ग्राम उरमोला पट्टी कंडवालस्यू पोस्ट घिण्डवाड़ा जिला पौड़ी गढ़वाल हाल पता WALK AND WIN SOBER LING HOME प्रकृति विहार क्लेमेन्टाउन जनपद देहरादू

निर्देशन/ मार्गदर्शक अधिकारी

1- सरिता डोभाल, एसपी सिटी, देहरादून
2-अनुज कुमार, सीओ, सदर देहरादून

पुलिस टीमः

1-धर्मेंद्र सिंह रौतेला थाना अध्यक्ष क्लिमेंट टाउन
2. व0उ0नि0 शोएब अली
3. म0उ0नि0 रजनी चमोली
4. हे0का0प्रो0 55 राजकुमार
5. का0 914 सुनील पंवार
6. का0 589 हितेश
7. का0 899 भूपेन्द्र
8. का0 किरन (sog)

The post देहरादून : पकड़ा गया नशा मुक्ति केंद्र का दुष्कर्मी संचालक, खुद था नशे का आदी, विभा से हुई थी मुलाकात first appeared on Khabar Uttarakhand News.





0 comments:

Post a Comment

See More

 
Top